जयमाला : गुलज़ार साहब के साथ कुछ लम्हें -१०

आज की ये ख़ास पोस्ट है, गुलज़ार साहब के जन्मदिन के मौके पर. सोचा तो था आज कुछ अपनी बात कहूँगा, कुछ गुलज़ार साहब के लिए लिखूंगा, लेकिन मौका ही नहीं मिला आज. फेसबुक पर एक ग्रुप है गुलज़ार साहब के फैन्स का ग्रुप (जी-मित्र के नाम से), वहीँ से आज सुबह एक बेहतरीन लिंक हाथ लगा था, १९८५ में गुलज़ार साहब ने विविध भारती के लिए जो जयमाला कार्यक्रम प्रस्तुत किया था, उसकी बीस मिनट की ये रिकॉर्डिंग. तो आज पूराने दिनों का मजा लीजिये, और सुनिए जयमाला, गुलज़ार साहब की आवाज़ में. 

 (इस पोस्ट में दो जयमाला कार्यक्रम का ट्रांसक्रिप्ट दिया गया है. पहले ट्रांसक्रिप्ट का रिकॉर्डिंग नहीं है, और दूसरा जो ट्रांसक्रिप्ट है, उसे आप नीचे दिए गए युट्यूब लिंक से सुन सकते हैं. ) 

 – जयमाला १-

देश के जवानों, जवान भाइयों, जवान साथियों, आपका ये कार्यक्रम उधार था मुझपर. आज मैं हाज़िर हूँ. चलिए शुरुआत करते हैं फिल्म खुशबु के नगमें से. आशाजी की आवाज़ और संगीत आर.डी.बर्मन का.

घर जायेगी, तर जायेगी, डोलियाँ चढ़ जायेगी
मेहंदी लगायेगी रे, काजल सजायेगी रे
दुल्हनिया मर जायेगी ( फिल्म : खुशबु)
बड़ी दर्दनाक बात है, कि आप छुट्टी पर घर आये और तभी देश ने आपको पुकार लिया, और आपने भाई बहन, माता-पिता, सब को छोड़ कर देश की सेवा के लिए चल पड़े. आपकी आवाज़ हम तक पहुँचती है, और हमारी आवाज़ भी आप तक पहुँचती होगी. ये रिश्ता युहीं कायम रहेगा.गंगा आये कहाँ से, गंगा जाए कहाँ रे
आये कहाँ से..जाए कहाँ रे..
लहराए पानी में जैसे धुप छाँव रे (फिल्म : काबुलीवाला)

जवान दोस्तों, आप बहुत खुशकिस्मत हैं की आप हमेशा जवान ही कहलाते है. हमारी तरह आप बूढ़े नहीं होते. और मेरे जैसे शायर को तो लोग बचपन से ही बूढ़ा कहते हैं. हवाला देते हैं दूसरी सीता के नगमें का. संगीतकार भी वोही बूढ़ा जो शायद अपनी दाढ़ी के साथ ही पैदा हुआ था, श्रीमान आर.डी.बर्मन
दिन जा रहे हैं के रातों के साये
अपनी सलीबें आप ही उठाये (फिल्म : दूसरी सीता)
बरसों लम्बे दिन भी गुज़र जाते हैं. सदियों लम्बी रातें भी गुज़र जाती हैं. आपकी ज़िन्दगी में भी कुछ ऐसे पल आये होंगे जो कड़वे होंगे और जो काटते नहीं कटे होंगे. ऐसी ही एक रात का जिक्र है परिचय के इस गीत में, जिसे गाया है भूपेन्द्र और लता जी ने. इस गाने के लिए लता जी को नेशनल अवार्ड मिला था. यहाँ लता जी के बारे में मैं कुछ कहना चाहता हूँ जो कभी किसी से आजतक नहीं कहा. लता जी के लिए मेरे दिल में बड़ी श्रद्धा है. कई सदियों में ऐसी आवाज़ कभी पैदा हॉट है. आगे आनेवाली सदियों के लिए नहीं सोचता, वो उनकी आवाज़ को संभाल लेंगे, अफ़सोस तो उन सभी पर है जो उनकी आवाज़ सुने बैगर ही गुज़र गए.
बीती ना बिताई रैना, बिरहा की जाई रैना
भीगी हुयी अखियों ने लाख बुझाई रैना . (फिल्म : परिचय)
लता जी की आवाज़ से जी टी नहीं भरता, आपका भी नहीं भरता होगा. मेरी बेसुरी आवाज़ आपको नाराज़ कर रहे होगी. मैं आपको खफा नहीं करूंगा और नाही लता जी की आवाज़ की लड़ी को टूटने दूंगा. उसी रात का जिक्र सुनिए जो बितानी पड़ी थी. भिखारन रात को चाँद कटोरी लिए गाते हुए कभी सुना है? कभी रात को आँख खुल गयी हो और दूर से किसी की आलाप सुनाई दे रही हो?
रोज अकेली आये, रोज अकेली जाये
चाँद कटोरा लिये भिखारन रात (फिल्म : मेरे अपने)
बहुत से संगीतकारों के धुनों पे बोल लिखे हैं, और मेरे बोलों को कई संगीतकारों ने अपने सुरों से सजाया है. पर कभी कभी ऐसे धुनें बनी जिसपर बोल नहीं लिखे जाते और कई बार सीसे बोल लिखे गए जिन्हें धुनों में पिरोया नहीं जा सकता. लेकिन कोई चारा नहीं. कभी मेरे बोलो को किसी संगीतकार की धुनों की जरूरत महसूस हुई तो कभी ज़िम्मेदारी के लिए मुझे किसी संगीतकार के धुन पर बोल लिखने पड़े. हेमंत दा की ऐसी ही एक धुन पर मुझे बोल लिखने पड़े थे. उन आँखों की खुशबू को आपने भी देखी होगी.
हम ने देखी है, उन आखों की महकती खुशबू
हाथ से छूके इसे, रिश्तो का इल्जाम ना दो
सिर्फ एहसास हैं ये, रूह से महसूस करो
प्यार को प्यार ही रहने दो कोई नाम ना दो ( फिल्म : ख़ामोशी)
जवान साथियों, प्रोग्राम ख़त्म करने से पहले आपसे इजाजत चाहूँगा. ये साथ आज तक का नहीं, ज़िन्दगी तक का नहीं, ज़िन्दगी से और आगे तक का है. ये साथ है देश का, देश की इतिहास का, हम यूँही साथ चलते रहे. इस सफ़र में हम एक दूसरे की आँखों से ओझल हो जायेंगे सिर्फ अगले किसी मोड़ पर मिल जाने के लिए.
इस मोड़ से जाते हैं

कुछ सुस्त कदम रस्ते, कुछ तेज कदम राहें (फिल्म : आंधी)

– जयमाला २ –

फौजी भाइयों, आदाब! बहुत दिन बाद फिर आपकी महफ़िल में शामिल हो रहा हूँ. इससे पहले जब भी आपके पास आया तो कोई न कोई नयी तरकीब लेकर गानों की, जिसमें मैंने कई तरह के गाने आपको सुनाये, जैसे “रेल की पटरी” पर चलते हुए गाने सुनाये थे एक बार, वो तमाम गाने जिनमें रेल कि पटरी की आवाज़ भी सुनाई देती है और एक बार आम आदमी के मसलों पर गाने सुनाये जो लक्ष्मण के कार्टूनों जैसे लगते हैं. लेकिन मजाक के पीछे कहीं बहुत गहरे, बहुत संजीदे दर्द भरे हुए हैं इन गानों में. बच्चों के साथ गाये गाने भी आपको सुनाये. खेलते कूदते हुए गाने, लोरियां सुनाई आपको, और बहुत से दोस्तों की चिट्ठियाँ जब आयीं, चाहने वालों की चिट्ठियां आई, जिनमें शिकायतें भी, गिले भी, शिकवे भी थे. उनमें एक बात बहुत से दोस्तों ने कही कि हर बार आप कुछ मजाक करके हंस हंसाकर रेडियो से चले जाते हैं, जितनी बार आप आते हैं, हर बार हम आपसे कुछ संजीदा बातें सुनना चाहते हैं कि संजीदा सिचुएशन आप कैसे लिखते हैं, क्या लिखते हैं… और हाँ ये किसी ने नहीं पूछा की क्यों लिखते हैं. फौजी भाइयों आप तो वतन की सरहदों पर बैठे हैं. और मैं आपको बहलाते हुए, आपके परिवार वालों को भी बहलाने की कोशिश करता हूँ. हाँ उन सरहदों की बात कभी नहीं करता जो दिलों में पैदा हो जाते हैं. कभी जुड़ती हुई, कभी टूटती हुई, कभी बनती हुई, गुम होती हुई सरहदें…या सिर्फ हदें. इस तरह के रिश्ते सभी के ज़िन्दगी से गुज़रते हैं. वो ज़िन्दगी जिसे एक सुबह एक मोड़ पर देखा था. तो कहा था – हाथ मिला ए ज़िन्दगी, आँख मिलाकर बात कर !

रात बीत गयी दोस्तों, लेकिन खवाब नहीं टूटा. या कहिये कि टूटा तो उसकी किरचें कहीं सीने के अन्दर भी जी गयीं. वो ख्वाब जो सिर्फ एक ही ख्वाब था, वो रात जो सिर्फ एक ही रात थी, उम्र से लम्बी रात हो गयी, और वो रात जो ज़रा सी चिंगारी की तरह जल गया था सीने में, ज़िन्दगी भर के लिए सुलगता रह गया. ऐसी ही एक चिंगारी को देखिये तो एक शायर ने कैसे महसूस किया है, और शायर का नाम है आनंद बक्षी.

चिंगारी कोइ भड़के, तो सावन उसे बुझाये
सावन जो अगन लगाये , उसे कौन बुझाये
पतझड जो बाग़ उजाड़े, वो बाग़ बहार खिलाये
जो बाग़ बहार में उजड़े, उसे कौन खिलाये (फिल्म : अमर प्रेम)

ना साहब, ये चिंगारी नहीं बुझती. आग सुख जाए शोले खुश्क हो जाएँ, लेकिन ये चिंगारी तो सिर्फ उगती रहती है. आँख इसे सींचती ही रहती हैं, जाने कहाँ कहाँ से सावन चुन चुन के लाती हैं. कहाँ कहाँ से मेघा बटोरती हैं…

बड़ी देर से मेघा बरसा हो रामा
जली कितनी रतियाँ ( फिल्म : नमकीन)

लाख कसमें दीं, वास्ते दिए, जानेवाले कभी वापस आते हैं क्या? दिन भी कट जाती हैं, रात भी कट जाते हैं. सांस सांस कर के उम्र भी कट जायेगी…सहने वालों ने तो अब लब भी सिल लिए, कोई गिला नहीं कोई शिकवा नहीं.

तेरे बीना ज़िन्दगी से कोइ, शिकवा तो नहीं
शिकवा नहीं, शिकवा नहीं, शिकवा नहीं
तेरे बीना ज़िन्दगी भी लेकिन ज़िन्दगी तो नहीं
ज़िन्दगी नहीं, ज़िन्दगी नहीं, ज़िन्दगी नहीं ( फिल्म : आँधी ) 

दर्द का तानाबाना बुनने वाले जुलाहे से एक बार किसी को पूछते सुना था –

मुझको भी तरकीब सिखा दे यार जुलाहे
अकसर तुझको देखा है कि ताना बुनते
जब कोई तागा टूट गया या खत्म हुआ
फिर से बांध के
और सिरा कोई जोड़ के उसमे
आगे बुनने लगते हो
तेरे इस ताने में लेकिन
इक भी गांठ गिरह बुन्तर की
देख नहीं सकता कोई
मैनें तो एक बार बुना था एक ही रिश्ता
लेकिन उसकी सारी गिराहें
साफ नजर आती हैं मेरे यार जुलाहे
मुझको भी तरकीब सिखा दे यार जुलाहे

…………कुछ लोग यूँ भी निबाह करते रहते हैं.
हज़ार राहें मूड के देखी, कहीं से कोई सदा ना आयी
बड़ी वफ़ा से निभाई तुम ने, हमारी थोड़ी सी बेवफ़ाई ( फिल्म : थोड़ी सी बेवफाई)
फौजी दोस्तों, उम्मीद है की मैंने आपके पूराने गिले दूर कर दिए. अगली बार आपके नए गिले दूर करने हाज़िर होऊंगा. इजाज़त दीजिये.

आज की इस पोस्ट में बस इतना ही. अगले पोस्ट में भी एक और जयमाला कार्यक्रम सुनिए. तब तक इंतजार कीजिये

चेसिस की तारीख़ पूछ लो
कब की मैन्युफैक्चर है वो
वरना अकसर ठग लेते हैं गाड़ियां बेचने वाले!
मेरी चेसिस की तारीख़
अट्ठारह अगस्त उन्नीस सौ चौंतीस है!!

– गुलज़ार 

हैप्पी बर्थडे गुलज़ार साहब ! 

Get in Touch

  1. कितनी मेहनत से तुमने ये पोस्ट तैयार की है…हमको अच्छे से पता है…। गुलज़ार साहब से क्षमायाचना सहित कहूँगी…तुम्हारे जैसे चाहने वालों के दम पर ही कोई गुलज़ार इस तरह गुलज़ार साहब बनते हैं…।
    बाकी तो वो हैं ही बेमिसाल…।

  2. गुलज़ार जी की आवाज सुनना एकदम नया अनुभव लगा । हालांकि मैं उनसे एकलव्य भोपाल में मिल चुकी हूँ । उन्होंने बात भी की पर तब मेरा ध्यान शायद उनकी आवाज पर नही गया था । आवाज और उनके गीत के बोल दो अलग तरह का अनुभव देते हैं ।

  3. गुलज़ार साहब की आवाज़ का जादू उनकी तमाम नज़्मों को रूह बख्शता है.. नज़्में ज़िन्दा हो जाती हैं और उनमें मँहकने लगती है ख़ुशबू रिश्तों की, मोहब्बत की और अदब की!
    देखो आज जाकर मौक़ा मिला मुझे यह देखने का! वैसे उनको ये बता देना कि उनकी चेसिस की मैन्युफ़ैक्चरिंग डेट में तारीख़ तो है, लेकिन साल नहीं!! 🙂

  4. दुर्लभ यादें !
    गुलज़ार साहब संवेदना और शब्दों में मित्रता कराने वाले उत्कृष्ट गीतकार है।
    उनके जन्म दिन पर उन्हें अनेक शुभकामनाएं।

  5. बेहद सुखद …. पुरानी यादें ताज़ा हो गयी …. गुलज़ार साहब जैसे व्यक्तित्व किसी तारीख़ के मोहताज़ नहीं होते … अशेष शुभकामनाएं ….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get in Touch

20,829FansLike
2,403FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts

हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रुठै नहीं ठौर : शिक्षक दिवस पर खास

आज शिक्षक दिवस है, यह दिन भारत के प्रथम उप-राष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती 5 सितंबर को, उनके याद में...

तीज की कुछ यादें, कुछ अभी की बातें और एक आधुनिक समस्या

बचपन से ही तीज का पर्व मेरे लिए एक ख़ास पर्व रहा है. सच कहूँ तो उन दिनों इस पर्व का न तो कारण...

इस भाग दौड़ की ज़िन्दगी में याद आता है – एक वो भी था ज़माना, एक ये भी है ज़माना..

बारिश हो रही हो, मौसम सुहाना हो गया हो और ऐसे में अगर कुछ पुराना याद आ जाए तो जाने क्या हो जाता है...

भारत की सबसे आइकोनिक कार की कहानी, जानिये क्यों थी खास और क्या था इतिहास

मार्च 2019 में अचानक एक खबर आँखों के सामने आई, कि मारुती अपनी गाड़ी जिप्सी का प्रोडक्शन बंद कर रही है. एक लम्बे समय...

आईये, बंद दरवाजों का शहर से एक मुलाकात कीजिये

यूँ तो साल का सबसे खूबसूरत महिना होता है फरवरी, लेकिन जाने क्यों अजीब व्यस्तताओं और उलझनों में ये महिना बीता. पुस्तक मेला जो...