CATEGORY

My Persoal Diary

तीज की कुछ यादें, कुछ अभी की बातें और एक आधुनिक समस्या

बचपन से ही तीज का पर्व मेरे लिए एक ख़ास पर्व रहा है. सच कहूँ तो उन दिनों इस पर्व का न तो कारण...

इस भाग दौड़ की ज़िन्दगी में याद आता है – एक वो भी था ज़माना, एक ये भी है ज़माना..

बारिश हो रही हो, मौसम सुहाना हो गया हो और ऐसे में अगर कुछ पुराना याद आ जाए तो जाने क्या हो जाता है...

कुछ पल के लिए ही सही, एक कीड़े ने पुराना समय याद दिलाया।

कल की सुबह बेहद आम थी. मैं घर से काम पर निकला. सुबह दस बजे की मेट्रो लेता हूँ मैं. मेरे मेट्रो रूट पर...

मेरे दादाजी और सिंघौल गाँव का पहला डाकघर – पुरानी यादें

यह बहुत पुरानी बात है. मेरे गाँव की कहानी है. मेरे दादाजी की और मेरे गाँव के पहले पोस्ट ऑफिस की कहानी. कभी ये...

वो कमरा याद आता है.. – मेरा पुराना कमरा और एक कविता

जावेद साहब की एक कविता है "वो कमरा याद आता है".उस कविता को जब कभी पढ़ता हूँ, एक टीस सी उठती है मन में.दो...

मेरे बारे में कुछ जाने…आखिर हूँ कौन मैं 😉

  This is a short Introduction of Me  अभी 27-June-2010 को ये मेरा परिचय अपडेट हुआ..ये मेरा परिचय ब्लॉग पे पोस्ट हुआ था 28-May-2007 को सबसे पहले...

Latest news