Tag:Bhagat Singh

तेईस मार्च को : भगत सिंह पर लिखी गयी कुछ कवितायें

उन दिनों जब भगत सिंह को फांसी की ख़बरें सुनाई जा रही थी, लोगों ने खूब कवितायेँ लिखी उनके लिए. खूब आलेख छपे भगत...

सुखदेव और राजगुरु

शहीद दिवस पर सिर्फ भगत सिंह का नाम अकेले नहीं लिया जाता. जितने सम्मान और आदर के साथ हम भगत सिंह का नाम लेते...

भगत सिंह ने घर वालों को जो ख़त लिखे – भगत सिंह के पत्र

भगत सिंह की कलम से लिखा गया पहला खत अपने दादा के नाम था जो उन्होंने तब लिखा था जब वे छठी कक्षा में...

हमें फाँसी देने के बजाय गोली से उड़ाया जाए – भगत सिंह के पत्र

भगत सिंह और उनके दोनों साथियो को फांसी लगने ही वाली है. यह सबकी राय थी. उसे किसी तरह कुछ दिन के लिए रोकना...

भगतसिंह के पत्र – हमारे इतिहास के धरोहर

अपने ब्लॉग पर मैंने पहले भी भगतसिंह के कुछ पत्र लगाये हैं, आज फिर से उनके लिखे तीन पत्र अपने ब्लॉग पर लगा रहा...

आज मैं पूरी तरह से सतुष्ट हूँ,पहले से कहीं अधिक – सुखदेव के नाम भगत सिंह का पत्र

सुखदेव और भगत सिंह दोनों अभिन्न साथी थे.उनकी मित्रता का आधार दोनों की अध्यन-शीलता थी.सुखदेव की संगठन-शक्ति अदभुत थी,पर उनमें मानसिक स्थिरता की कमी...

इन्कलाब जिन्दाबाद क्या है? – जानिये सरदार भगत सिंह के पत्र के माध्यम से

पिछले महीने एक किताब खरीदी - "सरदार भगत सिंह-पत्र और दस्तावेज". इस किताब में भगत सिंह के द्वारा लिखे गए पत्रों का संकलन है...

Latest news

हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रुठै नहीं ठौर : शिक्षक दिवस पर खास

आज शिक्षक दिवस है, यह दिन भारत के प्रथम उप-राष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती 5...

तीज की कुछ यादें, कुछ अभी की बातें और एक आधुनिक समस्या

बचपन से ही तीज का पर्व मेरे लिए एक ख़ास पर्व रहा है. सच कहूँ तो उन दिनों इस...

इस भाग दौड़ की ज़िन्दगी में याद आता है – एक वो भी था ज़माना, एक ये भी है ज़माना..

बारिश हो रही हो, मौसम सुहाना हो गया हो और ऐसे में अगर कुछ पुराना याद आ जाए तो...

Must read

जयमाला : गुलज़ार साहब के साथ कुछ लम्हें -१०

आज की ये ख़ास पोस्ट है, गुलज़ार साहब के...

हमें फाँसी देने के बजाय गोली से उड़ाया जाए – भगत सिंह के पत्र

भगत सिंह और उनके दोनों साथियो को फांसी लगने...